facebook pixel
chevron_right Top
transparent
विहिप ने सीएम योगी से की धर्मांतरण कराने वाले मिशनरियों पर कठोर कार्रवाई की मांग
विहिप के राष्ट्रीय महामंत्री मिलिंद परांडे ने आरोप लगाया कि ईसाई मिशनरियां प्रदेश में बड़े पैमाने पर छल कपट और प्रलोभन से हिंदुओं का धर्मांतरण करा रही है। चंगाई सभाओं के जरिये भी इस साजिश को अंजाम दिया जा रहा है। प्रदेश सरकार को ऐसी मिशनरियों पर नकेल कसते हुए कठोर कार्रवाई करनी चाहिए। जिससे हिंदू समाज पर छाया धर्मान्तरण का खतरा खत्म हो। उन्होंने कहा कि 5 अक्टूबर को दिल्ली में साधु-संतों की बैठक में मंदिर मुद्दे पर आगे की रणनीति तय की जाएगी। कुंभ के दौरान अगले वर्ष 31 जनवरी और 1 फरवरी को प्रयाग में आयोजित धर्म संसद की बैठक में इस मुद्दे निर्णायक फैसला किया जाएगा। सरकार को कानूनी दिक्कतें दूर कर मंदिर निर्माण का मार्ग प्रशस्त करना चाहिए। धर्म संसद की बैठक में गोरक्षा, सामाजिक समरसता और यूपी में ईसाई मिशनरियों की सक्रियता, लव जेहाद, घर वापसी जैसे मुद्दों पर भी बात होगी। वह रविवार को यहां पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे। उन्होंने कहा कि बांग्लादेशियों की घुसपैठ, गो-हत्या और लव जेहाद जैसे मामले हिंदू समाज के अस्तित्व के लिए खतरा हैं। सरकार को इन पर कड़ाई से नियंत्रण लगाना चाहिए। हिंदू समाज इसे स्वीकार नहीं करेगा। घुसपैठ से आबादी असंतुलन पैदा हो गया है। कई राज्यों के मूल नागरिकों की पहचान संकट में है। मिजोरम, मेघालय और नगालैंड ईसाई बहुल हो गए हैं। जम्मू-कश्मीर मुस्लिम प्रभुत्व वाला राज्य बन गया है। धर्मांतरण और मुस्लिम घुसपैठ नहीं रोकी गई तो हिंदू समाज खतरे में पड़ जाएगा। परांडे ने धर्मांतरण, गो-हत्या, लव जेहाद के खिलाफ 25 सितंबर से 2 अक्टूबर तक अभियान चलाने की घोषणा की। कहा इसी दौरान लोगों को वापस हिंदू बनाने के लिए घर वापसी अभियान चलेगा।
For the best experience use Awesummly app on your Android phone
Awesummly Chrome Extension Awesummly Android App